Monday, 23 September 2019

हमने सब सच सच बतला कर गलती की



जे लो


दुनिया की बातों में आ कर गलती की
हमने सब सच सच बतला कर गलती की

वो मेरी खामोशी खूब समझता था
मैंने बातों में उलझा कर गलती की

एक अरसे के बाद मिली थी कुछ फुर्सत
हमने उनको फोन लगा कर गलती की

तन्हाई भी अब तनहा सी लगती है
घर से वो तस्वीर हटाकर गलती की

उनकी फितरत से पहले ही वाकिफ थे
हमने ही तो हाथ बढ़ा कर गलती की

धीरे धीरे ख़ुद जैसा ही कर डाला
हमने बच्चों को समझा कर गलती की

सहराओं को खुद ही कुछ करना होगा
बादल से उम्मीद लगाकर गलती की

भद्दी सी तस्वीर लगाना काफी था
ग़ज़लों पर दिन रात खपा कर गलती की

उसका राह बदल कर जाना वाजिब था
हमने ही आवाज़ लगाकर गलती की

लोग दिखावा करने में भी माहिर थे
हमने भी जज़्बात में आ कर गलती की

Tuesday, 30 April 2019

शिकवा किया न मैंने कभी कुछ गिला किया



तक़दीर ने मज़ाक बड़े से बड़ा किया
शिकवा किया न मैंने कभी कुछ गिला किया

जिस ने मेरी वफ़ा पर उठाये कई सवाल
मैंने उसी से इश्क़ कई मर्तबा किया

बच्चे तो लड़ झगड़ के दोबारा गले लगे
बेकार ही बड़ों ने तमाशा खड़ा किया

मौसम चुनाव का है ग़ज़ल इश्क़ पर हुई
हमको सुकून है कि चलो कुछ नया किया

बेवक्त चार लोग अयादत को आ गये
बेवज्ह चाय का भी मज़ा किरकिरा किया

आखिर उसी की रायशुमारी बचा सकी
 हमने तमाम उम्र जिसे अनसुना किया

कुछ देर को मुझे तो हुआ ही नहीं यक़ीन
उसने गले लगा के यूँ हैरतज़दा किया

मैं अपनी ख्वाहिशों से परेशान था मगर
फिर भी मेरे हिसाब से जितना हुआ, किया

Wednesday, 3 April 2019

ज्यों ज्यों घर केे पर्दे बढ़ते रहते हैं


ग़ज़ल जो कभी पूरी नहीं हुई

ज्यों ज्यों घर केे पर्दे बढ़ते रहते हैं
नखरे तेज़ हवा के बढ़ते रहते हैं

आंखों में जब ख़्वाब पनपता है कोई
इनके काले घेरे बढ़ते रहते हैं

माज़ी में कुछ ढूंढ रहे होते हैं हम
बस कहने को आगे बढ़ते रहते हैं

जैसे जैसे जेब सम्हलती है यारो
चोरी चोरी खर्चे बढ़ते रहते हैं

हिज्र का अरसा साँसों में नापा करिये
दिन तो अक़्सर घटते बढ़ते रहते हैं

कुछ भूखों की आस लियेे फुटपाथों पर 
मजबूरी के ठेले बढ़ते रहते हैं

कतरी जाती हैं जिनकी मरियल शाखें
गुलशन केे वो  पौधे बढ़ते रहते हैं



Monday, 1 April 2019

वक़्त मुझको हरा नहीं पाया



फल दरख्तों के  मोल ले आया
कैसे लाता मगर घनी छाया

एक सूरत ने यूँ गज़ब ढाया
उम्र भर होश फिर नहीं आया

अपनी तकदीर पर हँसी आयी
ज़िक्र जब भी कहीं तेरा आया

बुनता रहता है झुर्रियाँ हर पल 
वक़्त होता नहीं कभी ज़ाया

हमने कल देर तक ठहाकों से
अपने ज़ख्मों को खूब सहलाया

आज भी साथ साथ चलता है
कितना मासूम है मेरा साया

कैसे पहचानता ज़माने को
मैं जो ख़ुद को समझ नहीं पाया

वक़्त ख़ुद के लिये मिला हो मुझे
वक़्त ऐसा कभी नहीं आया

एक उम्मीद सी बची है अभी
आज भी डाकिया नहीं आया

आख़िरश हार मान ली मैंने
वक़्त मुझको हरा नहीं पाया

Saturday, 30 March 2019

पहाड़ों से


अब है जब सामना पहाड़ों से,
माँग कोई दुआ पहाडों से।

जब किया मश्विरा पहाड़ों से,
रास्ता मिल गया पहाड़ों से।

रास्ता तंग है ज़रा लेकिन,
रास्ता है सजा पहाड़ों से।

साथ ताउम्र थे समुंदर के,
इश्क़ ताउम्र था पहाड़ों से।

चाह कर भी कभी नहीं लौटा,
शहर जो भी गया पहाड़ों से।

मुश्किलें भी मिली पहाड़ों पर,
हौंसला भी मिला पहाड़ों से।

एक मीठी नदी निकलती है,
ख़ुश्क पत्थर नुमा पहाड़ों से।

बादलों ने कहा न जाने क्या,
चाँद छुपने लगा पहाड़ों से।

लौट आऊँगा मौत से पहले,
है ये वादा मेरा पहाड़ों से।

खेत बेरोज़गार हैं जब से
कारखाना सटा पहाड़ों से


Sunday, 10 March 2019

दो ग़ज़ला



------1
जब तक न लौट आयें परिंदे उड़ान से
लगते हैं घोंसले ये मेरे ही मकान से

अब चाशनी का बोझ उतारें ज़बान से
तलवार जब निकल ही चुकी है मियान से

आये थे गमगुसार लिये ज़ख्म की दवा
घबरा गये अगरचे पुराने निशान से

दफ़्तर से लौटते हैं मुलाज़िम बुझे बुझे
पत्थर लुढ़क रहे हों कि जैसे ढलान से

बाज़ार में तो खूब है कीमत अनाज की
मत पूछियेगा फिर भी कमाई किसान से

बरसों से वज़्न  झूट का तारी है रूह पर
तकलीफ़ हो रही है तभी तो अज़ान से

जंगल पहाड़ बर्फ़ समंदर नदी हवा
क्या खूब मौजज़े हैं घिरे आसमान से

घर से हटा तो लोगे सभी आईने मगर
कब तक बचे रहोगे नकुल इम्तिहान से

-----2

दो पल जो देख लूँ मैं उन्हे इत्मिनान से
मिल जाये कुछ निजात मुसलसल थकान से

उसने नज़र उठा के झुकायी ज़रूर थी
पर फिर पलट गयीं थी निगाहें बयान से

भँवरे उदास उदास हैं मायूस हैं ग़ुलाब
हो कर ख़फ़ा गये थे वो कल गुलसितान से

वादों की कोई फिक्र न मिलने का इंतज़ार
दिल जब लगा लिया हो किसी बेईमान से

मुझ से मेरे ग़मों पे सवालात छोड़िये
ऊंचाई पूछिये ना कभी आसमान से

गलती से उसने फोन मिलाया था कल् मुझे
पूछे न हाल कोई दिले बेज़ुबान से

सुर्खी ये शर्म से है कि गुस्से का है कमाल
मिलती है शक्ल देखिये ज़ीनत अमान से

लिखकर उन्हें जो पोस्ट किये ही नहीं कभी
रक्खे हुए हैं ख़त वो किताबों में शान से

Tuesday, 15 January 2019

आज़ाद नज़्म


गली के दूसरे कोने में 
जब इक बाँसुरी वाला
कभी बंसी बजाता है
तो ये मालूम होता है
कि दुन्या खूबसूरत है 
कि जैसे ख़्वाब हो कोई


मगर जब बाँसुरी वाला
सुरों में चूक जाता है
बदल देता है धुन जब भी
किसी मशहूर गाने की
तो लगता है हक़ीक़त है

मैं अक्सर सोचता हूँ क्यों
ख़ुदा भी चूक जाता है
बहुत से सुर लगाने में
धुन अच्छी सी बनाने में
कईं मन्ज़र सजाने में

जब उस से भूल होती है
तो कितना दर्द होता है
अगर तुम जानना चाहो
तो बस अखबार पढ़ लेना

या उस बच्चे से मिल लेना
कि दिल में छेद हो जिसके
और उसकी माँ उसे खुल कर
कभी हँसने नहीं देती